Loading....
World Social Forum-2024 Kathmandu, Nepal, 15-19 February 2024

Lokavidya Jan Andolan (LJA) Workshop 

Subject: Lokavidya: Knowledge base of another, new and better world

Location, Day / Date and Time will be announced soon.

pdf

There will be a stall of Lokavidya Literature at the Conference site.


Vision

Lokvidya Jan Andolan is the knowledge movement of the common people. People who have been declared ignorant by the educated, universities, science and modern state. It is a movement of their knowledge.

Most people believe that there is a sea of knowledge in the society outside the university. This ocean of knowledge is very wide and deep. There are many people who believe in the idea that people know that they are knowledgeable. Despite this, they and their knowledge are not respected in the society. Their knowledge has no economic value, so they are poor. Their knowledge has no respect in the public sphere, therefore they are marginalised. They do not have direct relations with public organizations, hence they are of no importance from the political point of view. Who are these people? These are the ordinary people. The entire farming community, artisans and tribal communities, street vendors, small shopkeepers, all kinds of service and repair workers, women, folk artists, etc., all these are ordinary people, who together create and re-create this ocean of knowledge outside the university.

The knowledge base of today’s capitalist system lies in Modern Science. On the basis of this Science, a path has been made to take a few people towards prosperity by pushing the majority of people into poverty and doing so has become the reason for the destruction of the Nature.

To create another new and better world, there is a need for a movement that will rise and spread on the waves of the ocean of knowledge made by ordinary people. The movement for the dignity of the people who have created this ocean of knowledge is the Lokvidya Jan Andolan (LJA). LJA calls for a large unity of the movements of the ordinary people on the basis of their knowledge. These are movements of farmers, artisans and aadivasis, women and small retailers. They should come together on one platform. This will be a knowledge platform and the knowledge base for creating a new and better world lies in lokavidya. Such a claim will have to be presented from this knowledge platform. The way to create such a world free from war lies in the lokavidya approach.

 

About Lokavidya Jan Andolan (LJA)

The first convention of Lokavidya Jan Andolan was held at Vidya Ashram in Sarnath, Varanasi (India) in November 2011 and then regional conventions and conferences were held in Darbhanga, Singrauli, Indore, Multai, Nagpur, Sevagram, Mumbai, Hyderabad, Vijayawada, Bangalore etc. There are many publications of LJA which are available on Vidya Ashram’s website www.vidyaashram.org

Since the Asia Social Forum held in India in Hyderabad (2003), discussions on Lokavidya, i.e. ‘knowledge in society’ have been organized. LJA has been participating in the conferences of World Social Forum held in Mumbai (January 2004), Karachi (March 2006), Nairobi (January 2007) and Tunis (March 2015) and in India Social Forum Delhi (November 2006). In all these conferences one booklet for each (total 5) has been published, all of them are available on the Vidya Ashram website www.vidyaashram.org

 

Main submissions of Lokvidya Jan Andolan (LJA)
  1. Lokavidya should have equal status to university knowledge.
  2. Those doing lokavidya work should have the same income as government employees.
  3. Every conflict, dispute and problem should be resolved through dialogue. The path of war and violence should be permanently rejected.

 

These ideas and programs based on the lokavidya point of view are the next steps in the fight against social inequality and the struggle for economic and social justice. Struggles on these issues not only pave the way for freedom from poverty, unemployment and illiteracy but also offer solutions to global economic and environmental crises.

Farmers, artisans, aadivasis, street vendors and small shopkeepers, folk artists, women and all kinds of service and repair workers run their families on the strength of their own knowledge. All these families should have the same income as that of a government employee or an organized sector employee. Governments should take the responsibility to provide this.

Lokavidya Jan Andolan (LJA), India
Main Secretariate: Vidya Ashram, Sarnath, Varanasi.
Website: www.vidyaashram.org
E-mail: vidyaashram@gmail.com
Contact:

Harishchandra Kevat (9555744251) haribhu222@gmail.com

Fazlurrahman Ansari (7905245553)     fazlurrahmana@gmail.com

—————————————————–

 

 

What is Lokavidya?
Lokavidya is expressed mainly with the help of the following points.
  1. The knowledge that people have in the society is called lokavidya.
  2. Lokavidya resides in the society outside the colleges and universities.
  3. People who don’t go to university are not ignorant. They manage their lives by acquiring knowledge and wisdom from the society. They are masters of lokavidya and are often called lokavidyadhar.
  4. Lokavidya is not traditional knowledge or local knowledge, nor is it limited to caste, village, religion or race.
  5. Lokavidya resides in the society. It cannot be contained in any book, caste, religion, library, university or computer. It remains alive with the people and keeps developing through them.
  6. Lokavidya is ever new. With their own and society’s needs, people keep adding to lokavidya on the basis of their experience, experiments and their genius.
  7. The sources of the strength of the society lie in lokavidya. On the basis of lokavidya, people not only earn their living but also build their relationships with nature and society.
  8. Ordinary people’s way of thinking, their values, methods of reasoning, ideas of organization, their relationships with each other and with the Nature and their world of information, skills, art and philosophy, all together create the world of knowledge, which is called lokavidya.
  9. Farmers, artisans of all kinds, aadivasis, repair and service workers, small shopkeepers, folk artists, and women all acquire knowledge on their own from diverse sources and participate in the society on the basis of this knowledge. Lokavidyadhar together constitute the lokavidya-samaj.
  10. Lokavidya does not separate labor and intelligence. In lokavidya, no work is thought of as done only by labour, but is seen as done through a combination of labor and knowledge. In other words, lokavidya does not consider a person doing ‘manual’ work as a mere labourer, but as a knowledgeable person. In lokavidya philosophy, every human being is knowledgeable and the dignity of his knowledge paves the way for making a better world.
  11. The social and economic inequality prevalent in the society can be removed only when lokavidya gets equal respect and value as university knowledge gets.

 

Lokavidya Jan Andolan is a knowledge movement.
The goal is to win and secure equal status for
 Lokavidya and lokavidya-samaj in the larger society.

विश्व सामाजिक मंच-2024 काठमांडू, नेपाल, 15-19 फरवरी 2024

लोकविद्या जन आन्दोलन की कार्यशाला

विषय – लोकविद्या: एक दूसरी, नई और बेहतर दुनिया का ज्ञान आधार
स्थान, दिन और समय की घोषणा जल्दी ही
गोष्ठी के स्थान पर लोकविद्या साहित्य का स्टाल भी होगा

pdf


दृष्टि

लोकविद्या जन आन्दोलन सामान्य जन का ज्ञान आन्दोलन है. पढ़े-लिखे लोगों, विश्वविद्यालय, साइंस और आधुनिक राजसत्ता ने जिन लोगों को अज्ञानी घोषित कर रखा है; उनके ज्ञान का आन्दोलन है.

अधिकांश लोग यह मानते हैं कि विश्वविद्यालय की दीवारों के बाहर समाज में ज्ञान का विशाल सागर है. ज्ञान का यह महासागर बहुत व्यापक और गहरा है. इस विचार को मानने वाले भी बहुत लोग हैं कि लोग जानते हैं कि वे ज्ञानी हैं.  इसके बावजूद, उन्हें और उनके ज्ञान को समाज में सम्मान नहीं है. उनके ज्ञान को आर्थिक मूल्य नहीं है इसलिए वे गरीब हैं; सार्वजनिक क्षेत्र में उनके ज्ञान को सम्मान नहीं है इसलिए वे हाशिये पर हैं ; जन-संगठनों से उनके सीधे रिश्ते नहीं है इसलिए वे राजनीतिक दृष्टि में गैरमहत्त्व के हैं. ये कौन लोग हैं? ये सामान्य जन कहलाते हैं. पूरा किसान समाज, कारीगर और आदिवासी समाज, ठेला-पटरीवाले, छोटे-छोटे दुकानदार, सभी तरह की सेवा और मरम्मत का काम करने वाले, महिलायें, लोक-कलाकार आदि ये सब सामान्य जन हैं, जो मिलकर विश्वविद्यालय के बाहर ज्ञान के इस महासागर का निर्माण और पुर्निर्माण करते हैं.

आज की पूंजीवादी व्यवस्था का ज्ञान-आधार साइंस में है. इसी साइंस के बल पर बहुसंख्य लोगों को गरीबी में धकेलकर कुछ लोगों को समृद्धि की ओर ले जाने का रास्ता बनाया गया है और ऐसा करना सृष्टि के विध्वंस का कारण बना है.

दूसरी नई और बेहतर दुनिया बनाने के लिए एक ऐसे आन्दोलन की आवश्यकता है, जो ज्ञान के लोक निर्मित महासागर की लहरों पर उठे और फैले. इस ज्ञान-सागर को बनाने वाले लोगों की प्रतिष्ठा का आन्दोलन ही लोकविद्या जन आन्दोलन है, जो यह आवाहन करता है कि किसान आन्दोलन, कारीगर और आदिवासियों के आन्दोलन, स्त्रियों और छोटी पूंजी के दुकानदारों के आन्दोलन व संघर्ष के नेतृत्व आदि अपने ज्ञान के बल पर एकसाथ एक मंच पर आयें. यह एक ज्ञान मंच होगा तथा दूसरी नई और बेहतर दुनिया बनाने का ज्ञान-आधार लोकविद्या में ही है, इसका दावा इस ज्ञान मंच से पेश करना होगा. ऐसी दूसरी दुनिया बनाने का रास्ता युद्ध मुक्त है,यह लोकविद्या दृष्टिकोण में निहित है.

लोकविद्या जन आन्दोलन के बारे में

लोकविद्या जन आन्दोलन का पहला अधिवेशन विद्या आश्रम पर सारनाथ, वाराणसी (भारत) में नवम्बर 2011 में हुआ और फिर क्षेत्रीय अधिवेशन और सम्मेलन वाराणसी के अलावा दरभंगा, सिंगरौली, इंदौर, मुलताई, नागपुर, सेवाग्राम, मुंबई, हैदराबाद,विजयवाडा, बंगलुरु आदि कई स्थानों पर हुए. लोकविद्या जन आन्दोलन के कई प्रकाशन हैं जो विद्या आश्रम की वेबसाईट vidyaashram.org पर उपलब्ध हैं.

हैदराबाद (2003) में हुए एशिया सामाजिक मंच से ही लोकविद्या, यानि ‘समाज में ज्ञान’ पर विमर्श का आयोजन किया जाता रहा है. विश्व सामाजिक मंच मुंबई (जनवरी 2004), कराची (मार्च 2006), नैरोबी (जनवरी 2007) और तुनिस (मार्च 2015) तथा भारत सामाजिक मंच दिल्ली (नवम्बर 2006) के सम्मेलनों में लोकविद्या जन आन्दोलन शामिल होता रहा है और इन सभी सम्मेलनों में प्रत्येक पर एक (कुल5) पुस्तिका प्रकाशित की गई है, ये सब विद्या आश्रम वेबसाईट पर उपलब्ध हैं.

लोकविद्या जन आन्दोलन के प्रमुख बिंदु
  1. लोकविद्या को विश्वविद्यालय के ज्ञान के बराबर का दर्जा हो.
  2. लोकविद्या आधारित कार्य करने वालों को सरकारी कर्मचारी के बराबर आय हो.
  3. हर समस्या, विवाद और विसंगति का हल संवाद से हो. युद्ध और हिंसा का मार्ग स्थाई तौर पर नकारा जाये.

इन मुद्दों पर आधारित विचार और कार्यक्रम सामाजिक विषमता के खिलाफ संघर्ष और आर्थिक-सामाजिक न्याय के संघर्ष के अगले कदम हैं. इन मुद्दों पर संघर्ष न केवल गरीबी, बेरोज़गारी और अशिक्षा के महाजाल से मुक्ति का रास्ता बनाते हैं बल्कि वैश्विक आर्थिक और पर्यावरणीय संकटों का हल भी प्रस्तुत करते हैं.

किसान, कारीगर, आदिवासी, ठेला-पटरीवाले और छोटे-छोटे दुकानदार, लोक-कलाकार, महिलायें और सभी तरह के सेवा और मरम्मत का काम करने वाले, अपने ज्ञान के बल पर अपना परिवार चलाते हैं. इन सभी के परिवारों में उतनी ही आय होनी चाहिए, जितनी एक सरकारी कर्मचारी की अथवा संगठित क्षेत्र के कर्मचारी की होती है. ये ज़िम्मेदारी सरकारें लें.

तय है कि इस मुकाम तक लोगों के अपने ज्ञान के आधार पर ही पहुंचा जा सकता है. समाज में दबदबा रखने वाले लोगों की व्यवस्था का विकल्प सामान्य जन के ज्ञान के आधार पर ही बनाया जा सकता है.

लोकविद्या जन आन्दोलन, भारत

प्रमुख कार्यालय: विद्या आश्रम, सारनाथ, वाराणसी

वेब साईट: https://vidyaashram.org

ई-मेल: vidyaashram@gmail.com
संपर्क

हरिश्चंद्र केवट (+91 9555744251) haribhu222@gmail.com                        

फ़ज़लुर्रहमान अंसारी (+91 7905245553) fazlurrahmana@gmail.com

 

लोकविद्या क्या है?
लोकविद्या की अभिव्यक्ति प्रमुखतः निम्नलिखित बिन्दुओं की सहायता से होती है.
  1. समाज में लोगों के पास जो ज्ञान होता है उसे लोकविद्या कहते हैं.
  2. लोकविद्या कालेज और विश्वविद्यालय से बाहर समाज में ही बसती है.
  3. जो लोग विश्वविद्यालय नहीं जाते वे अज्ञानी नहीं होते. वे समाज से ज्ञान और विद्या हासिल कर अपनी ज़िन्दगी चलाते हैं. उन्हें लोकविद्या के स्वामी या लोकविद्याधर कहते हैं.
  4. लोकविद्या परंपरागत विद्या अथवा स्थानीय विद्या नहीं है और न यह जाति, गाँव, धर्म, नस्ल में सिमित की जा सकती है.
  5. लोकविद्या समाज में बसती है. इसे किसी किताब, जाति, धर्म, ग्रंथालय, विश्वविद्यालय अथवा कंप्यूटर में बाँधा नहीं जा सकता. यह लोगों के पास जिंदा रहती है और उनके द्वारा विकसित होती रहती है.
  6. लोकविद्या नित-नवीन होती है. अपनी और समाज की ज़रूरतों के चलते लोग अपने अनुभव के आधार पर अपनी तर्क बुद्धि और प्रयोगों के जरिये लोकविद्या में सतत् इजाफा करते रहते हैं.
  7. समाज की शक्ति का आधार लोकविद्या में है. लोकविद्या के बल पर लोग केवल अपनी जीविका ही नहीं चलाते बल्कि प्रकृति और समाज से अपने रिश्ते बनाते हैं, सही-गलत की पहचान करते हैं, संगठन बनाते हैं, अन्याय का मुकाबला करते हैं और मूल्यों और तर्कों की बुनावट से अपनी विश्वदृष्टि बनाते हैं.
  8. लोगों के सोचने का तरीका, समाज के मूल्य, तर्क की विधाएं, संगठन के विचार, आपस में और प्रकृति के साथ उनके रिश्ते तथा उनकी जानकारियाँ, हुनर, कला व दर्शन सभी कुछ मिलकर ज्ञान की जो दुनिया बनाते हैं, उसे लोकविद्या कहते हैं.
  9. किसान, हर तरह के कारीगर, आदिवासी, मरम्मत और सेवा कार्य करने वाले, छोटे दुकानदार, लोक कलाकार, और महिलाएं ये सब विविध स्रोतों से अपने बूते ज्ञान हासिल करते हैं और इस ज्ञान के बल पर समाज में अपनी भागीदारी करते हैं. सभी लोकविद्याधर मिलकर लोकविद्या-समाज बनाते हैं.
  10. लोकविद्या श्रम और बुद्धि को अलग-अलग नहीं करती. लोकविद्या में कोई कार्य केवल श्रम का नहीं माना जाता, बल्कि श्रम और ज्ञान के मेल में ही देखा जाता है. दूसरे शब्दों में लोकविद्या मेहनत का काम करने वाले किसी व्यक्ति को मात्र मज़दूर नहीं मानती, बल्कि ज्ञानी व्यक्ति मानती है. लोकविद्या दर्शन में प्रत्येक मनुष्य ज्ञानी है और उसके ज्ञान की प्रतिष्ठा ही बेहतर दुनिया बनाने का रास्ता बनाती है.
  11. समाज में फैली सामाजिक और आर्थिक गैर-बराबरी को तभी दूर किया जा सकता है जब लोकविद्या को विश्वविद्यालय की विद्या के बराबर मान और मूल्य मिले.

 

लोकविद्या जन आन्दोलन एक ज्ञान आन्दोलन है.
यह बृहत् समाज में
लोकविद्या और लोकविद्या-समाज के लिए
बराबरी का दर्जा हासिल करने का लक्ष्य रखता है.

विश्व सामाजिक मंच-2024 काठमांडू, नेपाल, 15-19 फेब्रुवारी 2024

लोकविद्या जन आन्दोलन ची कार्यशाळा

विषय – लोकविद्या: एका दुसऱ्या, नव्या आणि अधिक चांगल्या जगाचा ज्ञान-आधार
स्थळ, दिवस आणि वेळेची घोषणा लवकरच
संमेलनाच्या स्थळावर लोकविद्या साहित्य उपलब्ध असेल.

 


English
World Social Forum-2024 Kathmandu, Nepal, 15-19 February 2024

Lokavidya Jan Andolan (LJA) Workshop 

Subject: Lokavidya: Knowledge base of another, new and better world

Location, Day / Date and Time will be announced soon.

pdf

There will be a stall of Lokavidya Literature at the Conference site.


Vision

Lokvidya Jan Andolan is the knowledge movement of the common people. People who have been declared ignorant by the educated, universities, science and modern state. It is a movement of their knowledge.

Most people believe that there is a sea of knowledge in the society outside the university. This ocean of knowledge is very wide and deep. There are many people who believe in the idea that people know that they are knowledgeable. Despite this, they and their knowledge are not respected in the society. Their knowledge has no economic value, so they are poor. Their knowledge has no respect in the public sphere, therefore they are marginalised. They do not have direct relations with public organizations, hence they are of no importance from the political point of view. Who are these people? These are the ordinary people. The entire farming community, artisans and tribal communities, street vendors, small shopkeepers, all kinds of service and repair workers, women, folk artists, etc., all these are ordinary people, who together create and re-create this ocean of knowledge outside the university.

The knowledge base of today’s capitalist system lies in Modern Science. On the basis of this Science, a path has been made to take a few people towards prosperity by pushing the majority of people into poverty and doing so has become the reason for the destruction of the Nature.

To create another new and better world, there is a need for a movement that will rise and spread on the waves of the ocean of knowledge made by ordinary people. The movement for the dignity of the people who have created this ocean of knowledge is the Lokvidya Jan Andolan (LJA). LJA calls for a large unity of the movements of the ordinary people on the basis of their knowledge. These are movements of farmers, artisans and aadivasis, women and small retailers. They should come together on one platform. This will be a knowledge platform and the knowledge base for creating a new and better world lies in lokavidya. Such a claim will have to be presented from this knowledge platform. The way to create such a world free from war lies in the lokavidya approach.

 

About Lokavidya Jan Andolan (LJA)

The first convention of Lokavidya Jan Andolan was held at Vidya Ashram in Sarnath, Varanasi (India) in November 2011 and then regional conventions and conferences were held in Darbhanga, Singrauli, Indore, Multai, Nagpur, Sevagram, Mumbai, Hyderabad, Vijayawada, Bangalore etc. There are many publications of LJA which are available on Vidya Ashram’s website www.vidyaashram.org

Since the Asia Social Forum held in India in Hyderabad (2003), discussions on Lokavidya, i.e. ‘knowledge in society’ have been organized. LJA has been participating in the conferences of World Social Forum held in Mumbai (January 2004), Karachi (March 2006), Nairobi (January 2007) and Tunis (March 2015) and in India Social Forum Delhi (November 2006). In all these conferences one booklet for each (total 5) has been published, all of them are available on the Vidya Ashram website www.vidyaashram.org

 

Main submissions of Lokvidya Jan Andolan (LJA)
  1. Lokavidya should have equal status to university knowledge.
  2. Those doing lokavidya work should have the same income as government employees.
  3. Every conflict, dispute and problem should be resolved through dialogue. The path of war and violence should be permanently rejected.

 

These ideas and programs based on the lokavidya point of view are the next steps in the fight against social inequality and the struggle for economic and social justice. Struggles on these issues not only pave the way for freedom from poverty, unemployment and illiteracy but also offer solutions to global economic and environmental crises.

Farmers, artisans, aadivasis, street vendors and small shopkeepers, folk artists, women and all kinds of service and repair workers run their families on the strength of their own knowledge. All these families should have the same income as that of a government employee or an organized sector employee. Governments should take the responsibility to provide this.

Lokavidya Jan Andolan (LJA), India
Main Secretariate: Vidya Ashram, Sarnath, Varanasi.
Website: www.vidyaashram.org
E-mail: vidyaashram@gmail.com
Contact:

Harishchandra Kevat (9555744251) haribhu222@gmail.com

Fazlurrahman Ansari (7905245553)     fazlurrahmana@gmail.com

—————————————————–

 

 

What is Lokavidya?
Lokavidya is expressed mainly with the help of the following points.
  1. The knowledge that people have in the society is called lokavidya.
  2. Lokavidya resides in the society outside the colleges and universities.
  3. People who don’t go to university are not ignorant. They manage their lives by acquiring knowledge and wisdom from the society. They are masters of lokavidya and are often called lokavidyadhar.
  4. Lokavidya is not traditional knowledge or local knowledge, nor is it limited to caste, village, religion or race.
  5. Lokavidya resides in the society. It cannot be contained in any book, caste, religion, library, university or computer. It remains alive with the people and keeps developing through them.
  6. Lokavidya is ever new. With their own and society’s needs, people keep adding to lokavidya on the basis of their experience, experiments and their genius.
  7. The sources of the strength of the society lie in lokavidya. On the basis of lokavidya, people not only earn their living but also build their relationships with nature and society.
  8. Ordinary people’s way of thinking, their values, methods of reasoning, ideas of organization, their relationships with each other and with the Nature and their world of information, skills, art and philosophy, all together create the world of knowledge, which is called lokavidya.
  9. Farmers, artisans of all kinds, aadivasis, repair and service workers, small shopkeepers, folk artists, and women all acquire knowledge on their own from diverse sources and participate in the society on the basis of this knowledge. Lokavidyadhar together constitute the lokavidya-samaj.
  10. Lokavidya does not separate labor and intelligence. In lokavidya, no work is thought of as done only by labour, but is seen as done through a combination of labor and knowledge. In other words, lokavidya does not consider a person doing ‘manual’ work as a mere labourer, but as a knowledgeable person. In lokavidya philosophy, every human being is knowledgeable and the dignity of his knowledge paves the way for making a better world.
  11. The social and economic inequality prevalent in the society can be removed only when lokavidya gets equal respect and value as university knowledge gets.

 

Lokavidya Jan Andolan is a knowledge movement.
The goal is to win and secure equal status for
 Lokavidya and lokavidya-samaj in the larger society.

हिन्दी
विश्व सामाजिक मंच-2024 काठमांडू, नेपाल, 15-19 फरवरी 2024

लोकविद्या जन आन्दोलन की कार्यशाला

विषय – लोकविद्या: एक दूसरी, नई और बेहतर दुनिया का ज्ञान आधार
स्थान, दिन और समय की घोषणा जल्दी ही
गोष्ठी के स्थान पर लोकविद्या साहित्य का स्टाल भी होगा

pdf


दृष्टि

लोकविद्या जन आन्दोलन सामान्य जन का ज्ञान आन्दोलन है. पढ़े-लिखे लोगों, विश्वविद्यालय, साइंस और आधुनिक राजसत्ता ने जिन लोगों को अज्ञानी घोषित कर रखा है; उनके ज्ञान का आन्दोलन है.

अधिकांश लोग यह मानते हैं कि विश्वविद्यालय की दीवारों के बाहर समाज में ज्ञान का विशाल सागर है. ज्ञान का यह महासागर बहुत व्यापक और गहरा है. इस विचार को मानने वाले भी बहुत लोग हैं कि लोग जानते हैं कि वे ज्ञानी हैं.  इसके बावजूद, उन्हें और उनके ज्ञान को समाज में सम्मान नहीं है. उनके ज्ञान को आर्थिक मूल्य नहीं है इसलिए वे गरीब हैं; सार्वजनिक क्षेत्र में उनके ज्ञान को सम्मान नहीं है इसलिए वे हाशिये पर हैं ; जन-संगठनों से उनके सीधे रिश्ते नहीं है इसलिए वे राजनीतिक दृष्टि में गैरमहत्त्व के हैं. ये कौन लोग हैं? ये सामान्य जन कहलाते हैं. पूरा किसान समाज, कारीगर और आदिवासी समाज, ठेला-पटरीवाले, छोटे-छोटे दुकानदार, सभी तरह की सेवा और मरम्मत का काम करने वाले, महिलायें, लोक-कलाकार आदि ये सब सामान्य जन हैं, जो मिलकर विश्वविद्यालय के बाहर ज्ञान के इस महासागर का निर्माण और पुर्निर्माण करते हैं.

आज की पूंजीवादी व्यवस्था का ज्ञान-आधार साइंस में है. इसी साइंस के बल पर बहुसंख्य लोगों को गरीबी में धकेलकर कुछ लोगों को समृद्धि की ओर ले जाने का रास्ता बनाया गया है और ऐसा करना सृष्टि के विध्वंस का कारण बना है.

दूसरी नई और बेहतर दुनिया बनाने के लिए एक ऐसे आन्दोलन की आवश्यकता है, जो ज्ञान के लोक निर्मित महासागर की लहरों पर उठे और फैले. इस ज्ञान-सागर को बनाने वाले लोगों की प्रतिष्ठा का आन्दोलन ही लोकविद्या जन आन्दोलन है, जो यह आवाहन करता है कि किसान आन्दोलन, कारीगर और आदिवासियों के आन्दोलन, स्त्रियों और छोटी पूंजी के दुकानदारों के आन्दोलन व संघर्ष के नेतृत्व आदि अपने ज्ञान के बल पर एकसाथ एक मंच पर आयें. यह एक ज्ञान मंच होगा तथा दूसरी नई और बेहतर दुनिया बनाने का ज्ञान-आधार लोकविद्या में ही है, इसका दावा इस ज्ञान मंच से पेश करना होगा. ऐसी दूसरी दुनिया बनाने का रास्ता युद्ध मुक्त है,यह लोकविद्या दृष्टिकोण में निहित है.

लोकविद्या जन आन्दोलन के बारे में

लोकविद्या जन आन्दोलन का पहला अधिवेशन विद्या आश्रम पर सारनाथ, वाराणसी (भारत) में नवम्बर 2011 में हुआ और फिर क्षेत्रीय अधिवेशन और सम्मेलन वाराणसी के अलावा दरभंगा, सिंगरौली, इंदौर, मुलताई, नागपुर, सेवाग्राम, मुंबई, हैदराबाद,विजयवाडा, बंगलुरु आदि कई स्थानों पर हुए. लोकविद्या जन आन्दोलन के कई प्रकाशन हैं जो विद्या आश्रम की वेबसाईट vidyaashram.org पर उपलब्ध हैं.

हैदराबाद (2003) में हुए एशिया सामाजिक मंच से ही लोकविद्या, यानि ‘समाज में ज्ञान’ पर विमर्श का आयोजन किया जाता रहा है. विश्व सामाजिक मंच मुंबई (जनवरी 2004), कराची (मार्च 2006), नैरोबी (जनवरी 2007) और तुनिस (मार्च 2015) तथा भारत सामाजिक मंच दिल्ली (नवम्बर 2006) के सम्मेलनों में लोकविद्या जन आन्दोलन शामिल होता रहा है और इन सभी सम्मेलनों में प्रत्येक पर एक (कुल5) पुस्तिका प्रकाशित की गई है, ये सब विद्या आश्रम वेबसाईट पर उपलब्ध हैं.

लोकविद्या जन आन्दोलन के प्रमुख बिंदु
  1. लोकविद्या को विश्वविद्यालय के ज्ञान के बराबर का दर्जा हो.
  2. लोकविद्या आधारित कार्य करने वालों को सरकारी कर्मचारी के बराबर आय हो.
  3. हर समस्या, विवाद और विसंगति का हल संवाद से हो. युद्ध और हिंसा का मार्ग स्थाई तौर पर नकारा जाये.

इन मुद्दों पर आधारित विचार और कार्यक्रम सामाजिक विषमता के खिलाफ संघर्ष और आर्थिक-सामाजिक न्याय के संघर्ष के अगले कदम हैं. इन मुद्दों पर संघर्ष न केवल गरीबी, बेरोज़गारी और अशिक्षा के महाजाल से मुक्ति का रास्ता बनाते हैं बल्कि वैश्विक आर्थिक और पर्यावरणीय संकटों का हल भी प्रस्तुत करते हैं.

किसान, कारीगर, आदिवासी, ठेला-पटरीवाले और छोटे-छोटे दुकानदार, लोक-कलाकार, महिलायें और सभी तरह के सेवा और मरम्मत का काम करने वाले, अपने ज्ञान के बल पर अपना परिवार चलाते हैं. इन सभी के परिवारों में उतनी ही आय होनी चाहिए, जितनी एक सरकारी कर्मचारी की अथवा संगठित क्षेत्र के कर्मचारी की होती है. ये ज़िम्मेदारी सरकारें लें.

तय है कि इस मुकाम तक लोगों के अपने ज्ञान के आधार पर ही पहुंचा जा सकता है. समाज में दबदबा रखने वाले लोगों की व्यवस्था का विकल्प सामान्य जन के ज्ञान के आधार पर ही बनाया जा सकता है.

लोकविद्या जन आन्दोलन, भारत

प्रमुख कार्यालय: विद्या आश्रम, सारनाथ, वाराणसी

वेब साईट: https://vidyaashram.org

ई-मेल: vidyaashram@gmail.com
संपर्क

हरिश्चंद्र केवट (+91 9555744251) haribhu222@gmail.com                        

फ़ज़लुर्रहमान अंसारी (+91 7905245553) fazlurrahmana@gmail.com

 

लोकविद्या क्या है?
लोकविद्या की अभिव्यक्ति प्रमुखतः निम्नलिखित बिन्दुओं की सहायता से होती है.
  1. समाज में लोगों के पास जो ज्ञान होता है उसे लोकविद्या कहते हैं.
  2. लोकविद्या कालेज और विश्वविद्यालय से बाहर समाज में ही बसती है.
  3. जो लोग विश्वविद्यालय नहीं जाते वे अज्ञानी नहीं होते. वे समाज से ज्ञान और विद्या हासिल कर अपनी ज़िन्दगी चलाते हैं. उन्हें लोकविद्या के स्वामी या लोकविद्याधर कहते हैं.
  4. लोकविद्या परंपरागत विद्या अथवा स्थानीय विद्या नहीं है और न यह जाति, गाँव, धर्म, नस्ल में सिमित की जा सकती है.
  5. लोकविद्या समाज में बसती है. इसे किसी किताब, जाति, धर्म, ग्रंथालय, विश्वविद्यालय अथवा कंप्यूटर में बाँधा नहीं जा सकता. यह लोगों के पास जिंदा रहती है और उनके द्वारा विकसित होती रहती है.
  6. लोकविद्या नित-नवीन होती है. अपनी और समाज की ज़रूरतों के चलते लोग अपने अनुभव के आधार पर अपनी तर्क बुद्धि और प्रयोगों के जरिये लोकविद्या में सतत् इजाफा करते रहते हैं.
  7. समाज की शक्ति का आधार लोकविद्या में है. लोकविद्या के बल पर लोग केवल अपनी जीविका ही नहीं चलाते बल्कि प्रकृति और समाज से अपने रिश्ते बनाते हैं, सही-गलत की पहचान करते हैं, संगठन बनाते हैं, अन्याय का मुकाबला करते हैं और मूल्यों और तर्कों की बुनावट से अपनी विश्वदृष्टि बनाते हैं.
  8. लोगों के सोचने का तरीका, समाज के मूल्य, तर्क की विधाएं, संगठन के विचार, आपस में और प्रकृति के साथ उनके रिश्ते तथा उनकी जानकारियाँ, हुनर, कला व दर्शन सभी कुछ मिलकर ज्ञान की जो दुनिया बनाते हैं, उसे लोकविद्या कहते हैं.
  9. किसान, हर तरह के कारीगर, आदिवासी, मरम्मत और सेवा कार्य करने वाले, छोटे दुकानदार, लोक कलाकार, और महिलाएं ये सब विविध स्रोतों से अपने बूते ज्ञान हासिल करते हैं और इस ज्ञान के बल पर समाज में अपनी भागीदारी करते हैं. सभी लोकविद्याधर मिलकर लोकविद्या-समाज बनाते हैं.
  10. लोकविद्या श्रम और बुद्धि को अलग-अलग नहीं करती. लोकविद्या में कोई कार्य केवल श्रम का नहीं माना जाता, बल्कि श्रम और ज्ञान के मेल में ही देखा जाता है. दूसरे शब्दों में लोकविद्या मेहनत का काम करने वाले किसी व्यक्ति को मात्र मज़दूर नहीं मानती, बल्कि ज्ञानी व्यक्ति मानती है. लोकविद्या दर्शन में प्रत्येक मनुष्य ज्ञानी है और उसके ज्ञान की प्रतिष्ठा ही बेहतर दुनिया बनाने का रास्ता बनाती है.
  11. समाज में फैली सामाजिक और आर्थिक गैर-बराबरी को तभी दूर किया जा सकता है जब लोकविद्या को विश्वविद्यालय की विद्या के बराबर मान और मूल्य मिले.

 

लोकविद्या जन आन्दोलन एक ज्ञान आन्दोलन है.
यह बृहत् समाज में
लोकविद्या और लोकविद्या-समाज के लिए
बराबरी का दर्जा हासिल करने का लक्ष्य रखता है.

मराठी
विश्व सामाजिक मंच-2024 काठमांडू, नेपाल, 15-19 फेब्रुवारी 2024

लोकविद्या जन आन्दोलन ची कार्यशाळा

विषय – लोकविद्या: एका दुसऱ्या, नव्या आणि अधिक चांगल्या जगाचा ज्ञान-आधार
स्थळ, दिवस आणि वेळेची घोषणा लवकरच
संमेलनाच्या स्थळावर लोकविद्या साहित्य उपलब्ध असेल.

 


Back To Top